पश्चिमाचंल होगा नईं पीढी को तोहफा-डा०आमिर हसन

पश्चिमाचंल होगा नई पीढी के लिए तोहफा– डा०आमिर हसन  अनुशासन किसी भी संगठन, परिवार, समाज व राष्ट्र की रीढ की हड्डी– जगवीर सांगवान  पश्चिमाचंल बनेगा तो हमें मिलेगा हमारा हक –विनोद करनावल 

विरेन्द्र चौधरी
सहारनपुर।मेरठ सिथ्त पश्चिमाचंल निर्माण संगठन के कार्यालय पर संगठन की एक बैठक आहूत की गई।जिसकी अध्यक्षता किसान नेता जगवीर सिंह सांगवान व संचालन प्रमोद तोमर ने किया।
इस अवसर पर किसान नेता जगवीर सिंह सांगवान ने कहा कि अनुशासन किसी भी परिवार, समाज व राष्ट्र की रीढ की हड्डी होता है,इसलिए संगठन ने शुरूआती दौर में ही अनुशासनत्मक कमेटी व स्कैनिंग कमेटी का गठन कर अपनी कथनी और करनी जाहिर कर दी है।राष्ट्रीय अध्यक्ष लोकेन्द्र सिंह ने कहा कि अनुशासन के बिना कोई संगठन लंबा जिंदा नही रह सकता,अनुशासन और पारदर्शिता जीत का आधार है।उन्होंने कहा वे संगठन में चापलूसी व तानाशाही का विरोध करते आये है।इसलिए संगठन ने अपनी नियत सपष्ट करते हुए कमेटियों का गठन कराया है। महासचिव संगठन संजीव चिकारा ने कहा कि आज हम जिस हक और न्याय के उद्देश्य को लेकर संगठित हुए है, अनुशासन उसकी पहली पाठशाला है।
संगठन के उपाध्यक्ष डा०आमिर हसन ने कहा कि पश्चिमाचंल वक्त की मांग है,पश्चिमाचंल का निर्माण आने वाली पीढ़ियों को हमारा तोहफा होगा।प्रदेश अध्यक्ष विनोद करनावल ने कहा कि पश्चिम के लोग समपन्न होकर भी न्याय और हक के लिए तरस रहे है। प्रदेश की राजधानी व उच्च न्यायालय की दूरी इतनी अधिक है कि आम नागरिक चाह कर भी चुप ही रहता है।पश्चिमाचंल बनने के बाद ही हमें हमारा हक मिलेगा।
लेकिन इसके लिए लंबी लडाई लडनी होगी।
संगठन के राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रमोद तोमर ने अनुशासन व पारदर्शिता की परिभाषा को बताते हुए कहा कि जहां अनुशासन और पारदर्शिता होती है,उस संगठन को कोई तोड़ नहीं सकता।जो टूटता नही वो अपने अधिकारों की जीत सुनिश्चित कर लेता है।उन्होंने संगठन के पदाधिकारियों से अपील की कि वे अनुशासन को अपने कार्यशैली और विचारों में उतार लें। विशेष सचिव जनसंपर्क विरेन्द्र चौधरी पत्रकार ने बताया कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश को अलग राज्य बनाने के लिए कईं संगठन काम कर रहे थे,लेकिन जेबी संगठन व तानाशाही के कारण सभी संगठन टूट कर बिखर गये है।उन्हीं संगठनों के जुझारू और संघर्ष करने वाले लोगों ने पी एन एस को खडा किया है।इस संगठन में अनुशासन व लोकतंत्र कायम रखा जायेगा।जो संगठन के लिए बेहद जरूरी है।
संगठन उपाध्यक्ष राजीव उज्जवल व के पी सांगवान ने संयुक्त बयान में कहा कि अनुशासनहिनता व तानाशाही के कारण ही हम लोग पुराने संगठन छोड़ कर पश्चिमाचंल निर्माण संगठन के नेतृत्व में लामबंद हुए है। उन्होंने कहा कि संगठन अपनी अनुशासनत्मक और पारदर्शिता शैली से जल्दी ही पश्चिमाचंल में लोकप्रिय हो जायेगा। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजू पड़ित व नीरज शर्मा ने भी अपने विचार प्रस्तुत किये।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *